Taksh Pragya Sheel Gatha
Home >> क्या आप जानते है >> क्या होता है गणपति बप्पा मोरिया का सटीक अर्थ

क्या होता है गणपति बप्पा मोरिया का सटीक अर्थ

TPSG

Tuesday, September 21, 2021, 09:07 AM
chandragupt

*क्या होता है गणपति बप्पा मोरिया का सटीक अर्थ आवो समझे*

वास्तव में गणपति बप्पा मोरया का प्रयोग मौर्यो के लिए हुए था-

गण शब्द का प्रयोग छोटे छोटे राज्यो के चुने गए प्रतिनिधि के लिए प्रयोग होता था। मौर्यो की सत्ता के समय उत्तर भारत मे 16 जनपदों के राजतंत्रीय प्रणाली के साथ साथ कुछ जगह लोकतांत्रिक प्रणाली थी। लोगो द्वारा चुने गए प्रतिनिधि गण कहलाते थे और इनका प्रमुख गणपति कहलाता था। कोई भी प्राचीन इतिहास जानने वाला व्यक्ति इसके बारे में जरूर जानता है। इसी गण शब्द के कारण ही भारत को गणतंत्र का नाम दिया गया।

मौर्यो के समय पूरे भारत में मौर्यो की सत्ता के अंदर एक विशाल देश की स्थापना किया गया। परंतु मौर्यो की विशाल सत्ता के अधीन बहुत से छोटे छोटे राज्य थे जो मौर्यो की सत्ता स्वीकार करते थे। उस समय के अनुसार पूरे देश मे अकेले मगध से नियंत्रित नही किया जा सकता था इसलिए इन छोटे छोटे गणतंत्रों का मगध के अधीन गणतंत्र अस्तित्व बना रहा और ये सभी गणतंत्र राज्य मौर्यो को अपना शासक मानते थे।

बप्पा का मतलब पिता या पिता तुल्य होता है। बस्ती और गोंडा जिले में आज भी कुछ जगह पिता को बप्पा ही बुलाया जाता है।

गणपति बप्पा मोरया का मतलब गणों के पति अर्थात गणपति का पितातुल्य राजा मौर्यो के लिए प्रयोग हुआ।

मौर्यो के पतन के बाद ब्राह्मणों ने एक नसेड़ी, गंजेड़ी को भगवान बना दिया और उसको एक मानव स्त्री से विवाह कर दिया (भगवान और मानव में विवाह) और वो मानव स्त्री भी भगवान हो जाती है और उसके शरीर के मल से सन्तान पैदा करके भगवान बना दिया। है न भगवान पैदा करने की मजेदार कहानी और उसे गणपति का नाम देकर गणपति बप्पा मौर्या के वास्तविकता से ध्यान हटाने की भरपूर कोसिश किया गया।

हमे गणपति की जगह आज के दिन गणपति बप्पा मौर्यो चंद्रगुप्त और अशोक को सम्मान देना चाहिए।

*गणपति - निश्चित भू भाग*

*बप्पा - स्वामी*

*मौर्या -चन्द्रगुप्त*

! जय महान !

सौ० - दिनेश रत्न शाक्य बौद्ध





Tags : Republic history person Ganapati system democratic rule representatives