Taksh Pragya Sheel Gatha
Home >> गीत - कविताए

गीत - कविताए

जिनकी आँखों में सूरजमुखी के ख्वाब होते हैं

TPSG
Saturday, August 7, 2021, 03:16 PM

जिनकी आँखों में सूरजमुखी के ख्वाब होते हैं ....

मैँ कुछ नहीं बोला

TPSG
Monday, March 22, 2021, 08:14 PM

I did not say anything ....

ज्ञान के सूर्य की स्तुति

Ajay Narnavre
Friday, February 19, 2021, 12:09 PM

कल फिर उस रायगढ़ पर मैंने शिवराय को देखा मैंने झुक कर उनको जय भीम कहा फिर वे गालों म ....

आहिस्ता चल जिंदगी

TPSG
Monday, February 15, 2021, 11:29 AM

आहिस्ता चल जिंदगी अभी कई कर्ज चुकाना बाकी है कुछ दर्ज मिटाना बाकी है कुछ फर्ज निभाना ....

एक भाषा में अ लिखना चाहता हूँ

TPSG
Thursday, January 7, 2021, 09:43 PM

मैं सोचता था फ से फूल ही लिखा जाता होगा ....

गम को खुशियों में बदलना है तो आ जाओ

Siddharth Bagde
Wednesday, December 30, 2020, 10:08 AM

गम को खुशियों में बदलना है तो आ जाओ ....

औरों के लिये

Siddharth Bagde
Friday, December 18, 2020, 07:40 PM

हम तो चले जायेगें कुछ तो छोड़ दो औरों के लिये ....

नदी हूं मैं तो बहने दो

TPSG
Friday, December 18, 2020, 07:24 PM

न बांधों बांध में मुझको नदी हूं मैं तो बहने दो अलग हूँ मैं ज़माने से, अगर ख़ूबी है ये ....

तू भी इन्सान होता, मैं भी इन्सान होता,

TPSG
Thursday, October 3, 2019, 08:33 AM

ना दिवाली होती, और ना पठाखे बजते ना ईद की अलामत, ना बकरे शहीद होते ....

हमारे समाज में क्या फर्क है

TPSG
Monday, September 23, 2019, 09:39 AM

वो धन के लिए लडता है। हम धर्म के लिए लडते हैं। वो संसद की तरफ दौडता है। हम तीर्थ स्थ ....

खुद का दुश्मन खुद

Siddharth Bagde
Tuesday, July 2, 2019, 06:36 PM

खुद का दुश्मन खुद ....

ये जमाने की खुशिया है

Siddharth Bagde
Wednesday, June 12, 2019, 08:46 PM

रूठो को मनाओ तुम ये जमाने की खुशिया है ....

    
1
2
3
4
5
6
7
    
Page 1 of 7