Taksh Pragya Sheel Gatha
Home >> आम जनहित >> CFL बल्ब का इस्तेमाल

CFL बल्ब का इस्तेमाल

Narendra Shende
narendra.895@rediffmail.com
Thursday, October 3, 2019, 09:30 AM
CFL bulbs

ये कहानी कनाडा के रहने वाले स्मिथ की है, जिनका पैर अब काटा जाना है. इन्हें CFL बल्ब का इस्तेमाल या यूँ कहें कि इस्तेमाल में की गई लापरवाही बहुत भारी पड़ी हम सब जानते हैं कि CFL बल्ब कितनी बिजली बचाते हैं, लेकिन ज्यादातर लोग यह नहीं जानते कि इन बल्बों में पारा (Mercury) पाया जाता है जो कि शरीर में चले जाने पर बहुत ही घातक साबित होता है. स्मिथ ने ऐसे ही एक बल्ब के ठन्डे होने का इन्तज़ार नहीं किया और उसे होल्डर से निकालकर बदलने की कोशिश करते हुए  ज़मीन पर गिरा दिया  ज़मीन पर गिरते ही बल्ब टूट गया और काँच के टुकड़े बिखर गए.

स्मिथ नंगे पैर थे और अंधेरे में उनका पैर काँच के एक टुकड़े पर पड़ गया और बल्ब में उपस्थित पारा घाव के माध्यम से शरीर में प्रवेश कर गया. उन्हें 2 महीने ICU में रखा गया और अब उन्हें अपने पैर को खो देने का डर है. आज जानना ज़रूरी है कि CFL के टूट जाने पर क्या करें...

1) *कभी भी तुरन्त CFL ना बदलें.उसके ठन्डे होने का इन्तज़ार करें*

2) *CFL टूट जाने पर* *तुरन्त कमरे से निकल जाएँ* *ध्यान रखें कि पैर काँच के* *टुकड़े पर ना पड़ जाए*

3) *पंखे एसी इत्यादि* *बन्द कर दें जिससे* *पारा कहीं भी फैल ना सके*

4) *कम से कम 15-20 मिनट बाद ही कमरे में प्रवेश करके टूटे हुए काँच को साफ़ करें.पंखा बन्द रखें* *और मुँह को ढाँक कर रखें*

*दस्ताने पहनें और कार्डबोर्ड की मदद से काँच समेटें* *झाड़ू का इस्तेमाल ना करें* *क्यूँकि इससे पारे के* *फ़ैलने का डर रहता है.काँच के बारीक कण टेप की मदद से चिपका कर साफ़ करें*.

*5) कचरा फेंकने के बाद साबुन से हाथ धोना ना भूलें.*

*6) यदिकिसी कारणवश* *चोट लग जाए तो तुरन्त* *चिकित्सक को* *दिखाएँ और उसे चोट के बारे में सारी जानकारी दें.*

*सीसे और आर्सेनिक* *से भी कहीं अधिक ज़हरीला और घातक पारा होता है.* इसलिए CFL का प्रयोग करते समय बहुत सावधानी रखें.





Tags : electricity negligence CFL bulbs Canadian resident story