Taksh Pragya Sheel Gatha
Home >> क्या आप जानते है >> आधुनिक भारत में ब्राह्मणों का चक्रव्यूह

आधुनिक भारत में ब्राह्मणों का चक्रव्यूह

TPSG

Thursday, January 7, 2021, 09:17 PM
chakrviv

आधुनिक भारत में ब्राह्मणों का चक्रव्यूह*

----------------------------------------- 

एक ब्राह्मणों ने  -----  दुसरे ब्राह्मणों ने

    "कांग्रेस"                    "BJP"

=======                 =======

1. कांग्रेस संगठन     1. RSS संगठन          

     बनाया।                    बनाया ।   

2. हिदू महासभा       2. विश्व हिन्दू का                  

     गठन किया।            परिषद गठन।            

3. बानर सेना            3. बजरंग दल 

      बनाया।                    बनाया।   

4. करणी सेना           4. कार सेवक 

      बनाया।                    बनाया।                

5. युवा भारती           5. हिन्दू युवा वाहनी 

6. बाबरी मस्जिद      6. बाबरी मास्जीद  

का ताला तोड़वाया।        को तोड़ा।

7.भरतीय राष्ट्रीय      7. भरतीय जनता                     

    कांग्रेस पार्टी का         पार्टी बनाया।

    गठन किया।         

8.देश में निजीकरण   8.देश में पुर्णरुप                     

     लाया ।                   से लागू किया।

9. संविधान समाप्त   9.लोकतंत्र

    कर रहा है।          खत्म कर रहा है। 

10. EVMघोटाला    10.EVM घोटाला 

     कर 10 साल         कर 20 साल

    साल  राज किया ।  राज करेगा ।         

11.BJP का            11.मुसलमानों का 

डर दिखाकर            डर दिखाकर sc,st 

मुसलमानों का        obc का वोट प्राप्त 

वोट प्राप्त करता है।  करता है ।

12. नोट बन्दी का    12.नोट बंदी का 

 प्रस्ताव लाता है ।     प्रस्ताव पारित       

                             करता है ।

13.भारत में NRC    13. भारत मे 

     प्रस्ताव लाया।    NRC लागू किया 

14. दोनों का मूल भारतीयों के कार्यपालिका, व्यवस्थापिका, न्यायपालिका, मीडिया, शासन-प्रशासन, संपत्ति ... पर कब्ज़ा है।

इस प्रकार दोनो में एक सांपनाथ तो दूसरा नागनाथ रूपी भाई-भाई है।

*obc, sc, st, minorities अपने ही देश में शासित-शोषित है और धन, धरती, शासन-प्रसाशन, शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, न्याय, रोजगार, प्रगति, समता ... से वंचित है।* डा.बृजेश बंगड़

जनरल सेक्रेटरी, पंजाब 

पीपल्स पार्टी ऑफ़ इंडिया (डेमोक्रेटिक)





Tags : equity progress employment justice security health education country propertyminorities governance media judiciary administrative executive possession