Taksh Pragya Sheel Gatha
Home >> माय वोईस >> ब्रिटिश लीजेंड जेम्स प्रिंसेप और राजा अशोक

ब्रिटिश लीजेंड जेम्स प्रिंसेप और राजा अशोक

Nilesh Vaidh
nileshvaidh149@gmail.com
Friday, July 10, 2020, 02:43 PM
James Prinsep

ब्रिटिश लीजेंड जेम्स प्रिंसेप और राजा अशोक

जीवन का जादू इंसान के रूप में बढ़ने के लिए मानव शैली के सफर में मानव शैली की रोचक कहानी जीने का जादू है । आदमी के पैरों के नीचे जमीन में छिपा हुआ है उसका इतिहास इस इतिहास को जिंदा बनाने का जादू पुरातत्वशस्त्राजना है । ब्रिटिश काल भारत को सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले वैज्ञानिक मिले । इसमें विलियम जोन्स, काॅलीना मेकेन्झी, जेम्स टोड, मूव्स मेसन, फ्रांसिस लुक्स, सिकंदर कनिंघम आदि का उल्लेख करना महत्वपूर्ण होगा ।

जेम्स प्रिंसेप एक अद्भुत घटना है कि राजा अशोक के दिग्गज को राजा अशोक का ऐतिहासिक सबूत कैसे मिला.... देखते हैं जेम्स प्रिंसेप कौन था....

जेम्स प्रिंसेपा का जन्म इंग्लैंड के सबसे अमीर परिवार में से एक में हुआ था । उनके पिता भी ब्रिटिश संसद के सदस्य थे । जेम्स राजकुमारी ने वास्तुकला में खींच लिया था, लेकिन वह नेत्र हमले के कारण वास्तुकला में नहीं जा सका । उनके पिता ने मेटल मिक्स बनाने का तरीका जानने के लिए उन्हें एक प्रसिद्ध व्यवसाय में भेजा । अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने कोलकाता में ईस्ट इंडिया कंपनी में काम करना शुरू कर दिया । कोलकाता शहर के पूरे विकास के लिए उन्होंने एक नई पहल की है । जो अभी भी कोलकाता शहर से लाभ है । 1832 में ' एशियन सोसाइटी ' के सचिव ' एशियन सोसाइटी ' के पद पर पहुंच गए हैं । एशियाई समाज ब्रिटिश भारत का एक संगठन था जो नबूचदनेस्सर और राजनीतिक इतिहास, प्राचीन चीजों, विज्ञान, विज्ञान और एशिया की खोज कर रहा था । जेम्स प्रिंस ने इस संगठन तक पहुंचने के बाद काम दिया । अगले छह साल (1833 से 1838) में कई शाही परिवार और उनके कर्म पिछले छह साल (1833 से 1838) में प्रकाशित हुए हैं...

दिल्ली के स्टैंड पर लिखे कुछ शब्द जेम्स प्रिंसेपने ने पढ़ा - ′′ भगवान के राजा का राजा ′′

शब्द समूह बुद्ध साहित्य में सबसे लोकप्रिय है । जेम्स प्रिंसेपाल को मिल की किताब में इस तरह का उल्लेख मिला । जब जेम्स प्रिंस एक पहेली में गिर जाता है, तो 'राजा का राजा' कौन है? जेम्स प्रिंस की पहली प्रतिक्रिया यह थी कि शिलालेख को बुद्ध के आदेश से लिखा जाना चाहिए था । बाद में उन्हें एहसास हुआ कि भारत के कई हिस्सों में शिलालेख थाली पाए गए । किस राजा में दिल्ली, गियर, ओडिशा के लंबे क्षेत्र की शक्ति और शक्ति थी? भारत के इतिहास में कौन राजा बन गया है जिसका राज्य भारत में इतनी व्यापक और व्यापक भूमि पर है? यह जेम्स राजकुमारी के लिए एक सवाल था और वह कुछ दिनों के लिए पूरी तरह से उलझन में था । इन पत्रों को बार-बार पढ़ने के बाद पता चला कि ये लेख बुद्ध के आदेश से नहीं एक राजा ने आम जनता का कल्याण मांगा है । क्योंकि यह भी कहा गया था, ′′ प्रभु के नाम का राजा, मेरे राजा, मेरे राजा का राजा, आम लोगों के कल्याण का इंतजार कर रहा है." चाहे जितना भी कोशिश कर लो, पहेली ′′ भगवान ′′ का रिहा नहीं हुआ । उनका एक कारण यह है कि श्रीलंका के राजा (सैलून) से अनुरोध है कि भारत के राजा को भारत के राजा के पास अपने बेटे मिलिंदु (मिलिंद) और बेटी संघमित्त को बौद्ध धर्म और प्रसाद के प्रचार के लिए श्रीलंका भेज दें । ′′ देवनामापिया ′′ और ′′ देवेनपीटीस 'सा ′′ और ′′ देवेनपीटीस' सा ′′ के दो शब्द ′′ देवानामपिया ′′ और ′′ देवेनपीटी ′′ के दो शब्दों से उलझन में थे इसलिए ′′ भगवान ′′ का नाम पता नहीं चल सका । इस बीच, अगस्त 1837 में, दिग्गज जॉर्ज टर्नर बुद्ध की धमकी के बारे में एक पुस्तक का अनुसरण कर रहे थे, उनका ध्यान एक ग्राफ पर गया और वह मैं बन गया । वहाँ लिखा था कि,

′′ बुद्ध के 218 साल बाद सत्ता के लिए

' पियादस ' सी ' जो चंद्रबाबू का पोता था और बिंदुसाराका पुत्र था, और वह राजा अशोक बनने से पहले उज्जयानीका के राजा थे!

इस तरह भगवान राजा-सम्राट अशोक का नाम पता चला कि वह पूरी मानवता के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा राजा है...

----- प्रो. विकास शिंदे





Tags : British ground history journey human story life magic