Taksh Pragya Sheel Gatha
Home >> माय वोईस >> वेदो का इतिहास

वेदो का इतिहास

TPSG

Monday, September 20, 2021, 08:43 PM
Sunita Ambedkar

वेदो का इतिहास

1779 से पहले वेद नामक किसी भी पुस्तक का कोई अस्तित्व नही थी वेद श्रुति ग्रंथ हैं इसलिए इसे सुन कर याद कि जाती थी और फिर अगली पीढ़ी तक पहुंचाई जाती थी भारत मे छपाई का इतिहास 1556 से शुरू होता है लेकिन कागज पर लेख या पुस्तकों की छपाई 1749 से 1822 के बीच ही शुरू हुई 1822 के बाद बाइबिल और अन्य धार्मिक पुस्तकों की छपाई का दौर शुरू हुआ इस तरह आपकी ये धारणा खारिज हो जाती है की मनुष्य की उत्पत्ति के समय वेद नामक पुस्तक उसे किसी ईश्वर ने प्रदान की वेदों में क्या क्या वर्णित है और हमारे पूर्वज किन वैज्ञानिक चीजों का इस्तेमाल करते थे ये भी बता देते तो अच्छा होता तीर भाला गदा मंत्र श्राप और बच्चों के मनोरंजन की कहानियां इनके अलावा और कुछ हो वेदों में तो खंगाल लीजियेगा असल मे वेदों में विज्ञान का प्रोपगैंडा दयानन्द सरस्वती ने आरम्भ किया जब पूरी दुनिया विज्ञान के सहारे आगे बढ़ रही थी आधुनिक विज्ञान की शुरुआत हो चुकी थी लोग पुराणों और मिथकों की काल्पनिक दुनिया से बाहर निकल कर नई दुनिया मे विज्ञान के साथ जीने की खुशफहमी पाल रहे थे पूरी दुनिया मे धर्म की बुनियादें हिलाई जा रही थी मान्यताये ध्वस्त हो रही परम्पराओ को तोड़ी जा रही थी ऐसे दौर में धार्मिक गिरोहों के लिए विज्ञान की इस आंधी से धर्म को किसी भी तरह बचा लेने की चुनौती थी वर्ना सब खत्म उन्नीसवीं सदी असल मे विज्ञान और धर्म के सीधे टकराव का दौर थी आप गौर करेंगे तो इसी दौर में इस्लाम भी छटपटाया हुआ था गुलाम अहमद कादियानी अहमद रजा बरेलवी जैसे लोग इस्लाम की नई कवायदें जोड़ने में लगे हुए थे ईसाई अलग से प्रोटेस्टेंट और ऑर्थोडॉक्स में ईसायत की गिरी हुई इमारत को फिर से खड़ा करने में लगे हुए थे ऐसे में भारतीय पुरोहितों के सामने सबसे बड़ी चुनौती थी कि धर्म को कैसे बचाएं विज्ञान की इस आंधी में क्या बचाया जा सकता है उन्होंने मूलशंकर तिवारी उर्फ दयानंद सरस्वती के नेतृत्व में आर्यसमाज के नाम पर एक अलग धड़ा तैयार किया जिसमें पुराणों मिथकों और मूर्तिपूजा की मान्यताओं को झूठा करार दिया गया लेकिन बड़ी चतुराई से वेदों को बचा लिया गया ताकि बाद में वेदों के नाम पर धार्मिक प्रोपगेंडे को फिर से स्थापित किया जा सके भारत ने दुनिया को बहुत कुछ दिया है इससे जरूरी सवाल ये होना चाहिए कि भारत ने भारत को क्या दिया है आज देश मे भयंकर विदेशी कर्ज के अलावा चारों ओर जातिवाद गरीबी अशिक्षा भय भूख भ्रस्टाचार सामाजिक असमानता आर्थिक असमानता घृणा और अराजकता का माहौल फैली हुई है कहाँ है तुम्हारा वेदों का महान ज्ञान या उस समय ये ज्ञान कहाँ था जब देश बार बार विदेशी हमलावरों द्वारा लूटी जाती रही - सुनीता अम्बेडकर





Tags : articles number history generation existence