Taksh Pragya Sheel Gatha
Home >> मिशन >> विशेष आमंत्रण सूचना

विशेष आमंत्रण सूचना

TPSG

Wednesday, February 2, 2022, 12:39 PM
mqdefault

*विशेष आमंत्रण सूचना* 🌹

👉 *बौद्ध धम्म के अनुयाई ध्यान दें*🙏🙏🙏

*भारत में बुध्द विहार (मोनेस्ट्री) बनाना आसान है, किंतु दीर्घकाल तक बचाना, संरक्षित करना मुश्किल है ?*

*अभय रत्न बौद्ध*✍️

*भारत में बुध्द विहार बनाना आसान है किंतु उन्हें दीर्घकल तक बौद्ध धम्म विरोधी तत्वों से बचाना, सुरक्षित रखना असंभव है क्योंकि भारत के चक्रवर्ती बौद्ध सम्राट अशोक महान के द्वारा बनाए गए 84000 बुध्द विहारों को हम नहीं बचा पाए उनमें से अधिकांश को नष्ट कर दिया गया और कुछ पर जबरन बलपूर्वक कब्जा कर लिया गया*।

*भारत में बौध्दो के धर्मस्थल "बुध्द विहार" को आज भी मंदिर एवं टेंपल कहा जाता है और लिखा जाता है जबकि अन्य धर्मों के धर्म स्थलों को क्रमशः गिरजाघर, गुरुद्वारा, चर्च, मस्जिद, मंदिर के रूप में अपनी स्वतंत्र पहचान है*।

*1947 के बाद भी अधिकांश बौद्ध विहारों (स्मारकों) पर भारतीय पुरातत्व संरक्षण ने कब्जा कर लिया इसके अलावा केदारनाथ, बद्रीनाथ, जगन्नाथ पुरी, संकिसा, तिरुपति बालाजी,बुद्धगया, सोमनाथ गुजरात के बुध्द विहारों में बौद्ध धम्म विरोधी तत्वों का आज भी कब्जा है,और किया जा रहा है*।

*इसका मुख्य कारण यह है कि भारत में बुध्द विहारों की सुरक्षा एवं संरक्षण को लेकर "बुद्ध विहारा प्रबन्धन एक्ट" अभी तक नहीं बनाया जा सका है, "इसीलिए बुध्द विहार बनाना आसान है, किंतु दीर्घकाल तक बचाना मुश्किल है"*।

*बौध्द संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय समिति भारत का मानना है कि भविष्य में हमारी आने वाली बौद्ध पीढ़ी अपने बौद्ध विहारों को सुरक्षित एवं संरक्षित करने में स्वयं सक्षम हो,ऐसा नियम एवं कानून हम देना चाहेंगे कि पुनः उनके जीवन काल में विरोधियों का खतरा ना बन सके।अन्यथा कानून के अभाव में,आस्था के नाम पर अन्य धर्मो द्वारा बौद्ध विहारों पर गैर-कानूनी कब्जा किया जाता रहेगा*।

*बौद्ध संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय समिति,भारत द्वारा स्थापित "राष्ट्रीय बौद्ध धम्म संसद बुध्दगया" के माध्यम से हमारा आग्रह है कि देश के बौद्ध विद्वान, अधिवक्ता एवं पूज्य भिक्खु संघ संयुक्त रूप से मिलकर (1) - दिल्ली सिक्ख गुरुद्वारा प्रबंधन एक्ट -1971 ( 2) - प्राचीन संस्मारक तथा पुरात्वीय स्थल और अवशेष अधिनियम - 1958 (3) - दि दरगाह ख्वाजा साहेब एक्ट-1955(The Durgah Khawaja Saheb Act-1955) Act No.36 OF 1955 को पढ़कर- समझ कर हमें अपना इसी तर्ज पर "बुद्ध विहारा प्रबन्धन-एक्ट का अन्तिम मसौदा" ( ड्राफ्ट) को बनाकर "राष्ट्रीय बौद्ध धम्म संसद बुध्दगया" के स्थापना दिवस की "विशेष बैठक" में 17 मार्च 2022 को बौद्ध संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय समिति,भारत के मुख्यालय-महाबोधि मेडिटेशन सेंटर, बुध्दगया में चर्चा के लिए रखना है*।

*क्योंकि विगत अक्टूबर 2021, "9वीं राष्ट्रीय बौद्ध धम्म संसद बुद्गगया" के सत्र में सर्वसम्मति से बुद्ध विहारा प्रबन्धन एक्ट बनाने का प्रस्ताव पारित किया जा चुका है और "प्रारूप समिति" का गठन भी किया जा चुका है । बुद्ध विहारा प्रबन्धन-एक्ट प्रारूप समिति के अध्यक्ष श्रद्धेय आर.आर.गौतम, एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट को मनोनीत किया गया है*।

*"बुद्ध विहारा प्रबंधन एक्ट प्रारूप समिति" के सभी मनोनीत सदस्य अपना-अपना प्रारूप प्रस्तुत करेंगे, जिसे स्थापना दिवस की विशेष बैठक में चर्चा के साथ अंतिम रूप दिया जाएगा*।

*अतः हम भारत के जागरूक बौद्ध अधिवक्ताओं, विद्वानों, बौद्ध चिंतकों एवं पूज्य भिक्खु संघ से अपील करते हैं कि आप अपने "सुझाव एवं प्रस्ताव प्रारूप" लिखित रूप से श्रद्धेय भिक्खु डां. यू0 सन्दामुनी महाथेरो अध्यक्ष- बौद्ध संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय समिति भारत ‌एवं चेयरपर्सन, इंटरनेशनल बुद्धिस्ट काउंसिल के नाम मुख्यालय: महाबोधि मेडिटेशन सेंटर, सुजाता बाईपास रोड, बुध्दगया, जिला गया-824231 (बिहार) को लिखित रूप से या श्रद्धेय आर.आर. गौतम, एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट, अध्यक्ष-बुध्द विहारा प्रबन्धन-एक्ट प्रारूप समिति के नाम केंद्रीय कार्यालय: बुद्ध कुटीर,284/सी-1, स्ट्रीट नंबर-8, नेहरू नगर, नई दिल्ली-110008 के पते पर 17 मार्च 20 22 से पहले भेजें अथवा आगामी 17 मार्च 2022 को होने वाली स्थापना दिवस की बैठक में भाग लेकर सुझाव, सहयोग, मार्गदर्शन करें*।

*स्थापना दिवस की बैठक में अंतिम रूप देने के बाद के बाद "बुद्ध विहारा प्रबन्धन-एक्ट" को बौद्ध संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय समिति भारत के माध्यम से विधि आयोग नई दिल्ली, संसदीय याचिका समिति, लोकसभा एवं राज्यसभा तथा विधि एवं न्याय मंत्रालय भारत सरकार को संसदीय पटल पर रखवाने एवं कानूनी मान्यता के लिए भेजा जाएगा*।

*भवतु सब्ब मंगलं*

*धम्माकांक्षी*

*अभय रत्न बौद्ध*

*राष्ट्रीय समन्वयक एवं संगठक*

*बौद्ध संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय समिति भारत*

*मुख्यालय*: महाबोधि मेडिटेशन सेंटर, सुजाता बाईपास रोड,बुध्दगया, जिला गया-824231( बिहार)

*केंद्रीय कार्यालय*: बुध्द कुटीर,284/ सी-1, स्ट्रीट नंबर- 8, नेहरू नगर,नई दिल्ली-110008

*संपर्क*: 9540563465 ,9899853744

*E-mail*: argautam48@gmail.com





Tags : destroyed and some were forcibly captured Ashoka the Great 84000 Buddha Viharas