Taksh Pragya Sheel Gatha
Home >> इतिहास >> ब्राम्हणो को भिक्खु संघ में आने के लिए पाबंदी

ब्राम्हणो को भिक्खु संघ में आने के लिए पाबंदी

TPSG

Tuesday, September 21, 2021, 07:54 AM
shilalekh

सम्राट अशोक का दुनिया के लिए संदेश!

ब्राम्हणो को भिक्खु संघ में आने के लिए पाबंदी !

१.देवा' [नंपिये पियदसि लाजा आनपयति ] २. ए ल.......

३. पाट 'ये' केनपि संघे भेतवे [३] एखो

४. मि वा खुनि वा संघ माखति से ओदातानि दुसानि संनंधापयिया आनावाससि ५. आबामयिये [४] हेवं हवं सामने भिखुसि च मिनिसंघ च वनपयितत्रिये [५] ६. हेवं देवानंपिये आहा [६] हेदिसा च का लिपी तुफाकंतिकं हुवाति संसलनसि निखिता

७. एकं च लिपि हेदिसमेव उपासकानंतिकं निखिपाय [७] ते पि च उपामका अनुपोसथं यात्रु

८. एतमेव सासनं विस्वंसमितचे अनुपासथं च धुवाये इकिके महामाते पोसथाये

९. याति एतमेव सासनं विस्वंसमितवे आजानितवे च [८] आवतके च तुफार्क आहा १०. सवत विवासमाय तुफे एतेन बियंजनेन [९] हेमेव सबेसु कोटविषवेसु एतेन

११. बियंजनेन विवासापयाथा [१०]

Ashokan Prakrit inscribed in the Dhamma script at Sarnath.

~268—232 BCE

- विलास खरात





Tags : join Bhikkhu Sangha Brahmins Ban