Taksh Pragya Sheel Gatha
Home >> इतिहास >> केसरिया बौद्ध स्तूप

केसरिया बौद्ध स्तूप

TPSG

Saturday, August 8, 2020, 09:43 AM
Kesriya stupe

#केसरिया_बौद्ध_स्तूप 30 एकड़ में है। यहाँ एक बौद्धकालीन स्तूप है।

केसरिया चंपारण से 34 किलोमीटर दूर दक्षिण साहेबगंज-चकिया मार्ग पर लाल छपरा चौक के पास, ताजपुर देउर, बिहार स्थित है। यह पुरातात्विक महत्व का प्राचीन ऐतिहासिक स्थल है। यहाँ एक बौद्धकालीन स्तूप है। जिसे केसरिया स्तूप के नाम से जाना जाता है।

मोतिहारी।विश्व प्रसिद्ध केसरिया बौद्ध स्तूप का उत्खनन दोबारा शुरू किया गया है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग की देख-रेख में उत्खनन का काम चल रहा है। स्तूप की पश्चिम दिशा में उत्खनन हो रहा है। इसमें सीढ़ीनुमा कई सतह की दीवारें मिली हैं। इन दीवारों में सेल भी मिले हैं, जिनमें भगवान बुद्ध की क्षतिग्रस्त प्रतिमाएं हैं। स्तूप के निचले हिस्से में काले पत्थर से निर्मित स्तंभ भी मिले हैं। इन पर आकर्षक कलाकृतियां बनी हैं। माना जा रहा है कि कलाकृतियां लगभग 500 से 600 ई. पूर्व की हैं।

खुदाई की देख-रेख कर रहे केयरटेकर ने बताया कि नवंबर 2014 से दोबारा काम शुरू किया गया है। इसमें दुर्लभ अवशेष मिलने की संभावना है। भगवान बुद्ध सेवा संस्थान के सचिव सीताराम यादव ने बताया कि पूरी खुदाई होने से महत्वपूर्ण अवशेष मिल सकते हैं। उन्होंने पूरे स्तूप परिसर व रानीवास की खुदाई कराने की मांग की।

30 एकड़ में है स्तूप

केसरिया का बौद्ध स्तूप 30 एकड़ में फैला है। 104 फीट ऊंचे स्तूप हैं। खुदाई के कारण स्तूप पर चढ़ने पर रोक लगा दी गई है। वर्ष 2001 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग, पटना अंचल के पुरातत्ववेत्ता मो के के साहब ने देउड़ा को विश्व का सबसे ऊंचा स्तूप घोषित किया था।

2004 से बंद था उत्खनन

केसरिया स्तूप का उत्खनन पहली बार 1998 में शुरू हुआ था। करीब छह वर्षों बाद 2004 में उत्खनन का काम बंद कर दिया गया। तब से लोग दोबारा उत्खनन शुरू कराने की मांग कर रहे थे। पहली बार उत्खनन के दौरान भागवान बुद्ध की कई दुर्लभ प्रतिमाएं मिली थीं।

-बुध्दिष्ट इंटरनैशनल नेटवर्क





Tags : Buddhist stupa archaeological historical Kesariya Champaran Lal Chhapra Bihar Tajpur Deur